डायबिटीज के पेशेंट को क्या खाना चाहिए

Posted 1 CommentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

मधुमेह के रोगी का आहार केवल पेट भरने के लिए ही नहीं होता, बल्कि उसके लिए शरीर को ब्लड शुगर की मात्रा को ठीक रखने में सहायक होता है। क्योंकि यह बीमारी जीवन भर रहती है | इसलिए जरूरी है कि वह अपने खान-पान का डायबिटीज डाइट चार्ट बनाकर हमेशा ध्यान रखे। आमतौर पर मरीज़ […]

Read more >

जानिए डायबिटीज में क्या-क्या नहीं खाना चाहिए

Posted 1 CommentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

डायबिटीज में आहार दवाइयों से ज्यादा महत्तवपूर्ण स्थान रखता है, इसलिए मधुमेह मरीज़ जो भी खाए सोच-समझ कर खाए। मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए रोगी को आहार (Diet) पर सख्त नियंत्रण की आवश्यकता होती है। किसी व्यक्ति का खाना और डाइट चार्ट में शामिल कैलीरी की मात्रा उसके उम्र. वजन, लंबाई व लाइफ स्टाइल […]

Read more >

जानिए कमर दर्द व स्लिप डिस्क से बचने के सरल उपाय

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

बचाव – 1. रीढ की हड्डियों की सहायता करने वाली सभी मांसपेशियों की नियमित कसरत करना आवश्यक हैं। (चाहिए) कमर को सीधा रखने में इन मांसपेशियों की प्रमुख उपयोगिता हैं। 2. झुकने वजन उठाने अधिक देर तक खडे रहने तथा अधिक देर तक अच्छी अंग मुद्रा बनाये रखने या सोच समझकर बैठने से कमर पर […]

Read more >

जानिए कमर दर्द व स्लिप डिस्क होने की वजह और लक्षण

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

आज की भागम भाग की जीवन शैली में स्लीप डिस्क (डिस्क प्रोलेप्स) या लम्बर स्पोडोलाइटिस से लगभग 90 ( नब्बे ) प्रतिशत लोगों को अपनी जीवन काल में रूबरू होना पड़ रहा हैं। यह रोग अक्सर 25 से 45 वर्ष के युवा वर्ग में ज्यादा हो रहा हैं। कमर में होने वाले इस रोग को […]

Read more >

हार्ट अटैक से जुड़ी इन बातों को शायद ही जानते होंगे आप

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

आयुर्वेद में वातिक हृदय रोगों में हृ्दय प्रदेश में अनेक प्रकार के शूल प्रधान लक्षण हृ्द्षूल (एन्जाईना Angina) एवं हृदयाभिघात (Myocardial Infraction मायोकार्डियल इनफरैक्सन) के लक्षणों से मिलते हैं। आचार्य चरक ने वातिक हृदय रोगों में जकडाहट मूर्छा, वेष्ठन को माना हैं। हृदय रोगों में Chest Pain & Palpitation को प्रधान लक्षण माने हैं। अतः […]

Read more >

जानिए क्या कहता है आयुर्वेद अपने दिल के बारे में और दिल की बीमारियों के कारण के बारे में

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

हृदय हमारे शरीर का अत्यन्त महत्वपूर्ण अंग है। इसके धडकते रहने को ही जीवन कहते है। इसे मन का स्थान भी कहा गया है। जिसे साहित्यकारों, कवियों एवं शायरों ने भी अनेक उपमाओं से अपनी रचनाओं को अलंकृत किया है। जितना मानव जीवन में इसका महत्व है उतना ही इसका चिकित्सा शस्त्र में भी महत्व […]

Read more >

सिर दर्द को दुर भगाने का रामबाण इलाज

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

आज के तनाव भरे जीवन मे सिर दर्द हर किसी को हो रहा है । जो किसी रोग का लक्षण भी हो सकता है,एवं स्वतंत्र रोग भी हो सकता है आयुर्वेद में इस का विस्तृत वर्णन प्राप्त है। शिरःशूल (सिर दर्द):- आधे सिर के दर्द (आधा सीसी या माईग्रेन) (1.) चन्द्रकान्त रस – 250 एम.जी. […]

Read more >