मकान के मालिक कैसे बने

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, मेरी सोच

आज में जो बात समझाना चाह रहा हूं यदि वह बात आपकी समझ में आ जाय तो आप अपनी प्रत्येक इच्छा पुरी कर सकते है। प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसका एक अच्छा घर हो तथा घर में सभी भौतिक सुख-सुविधाएं विघमान हो परन्तु काफी लोग इस मुलभुत आवश्यकता की पूर्ति नहीं कर सकते है। […]

Read more >
over thinking jivandarshan

कामयाबी नहीं हुजूर, सिखाती तो नाकामी ही है…!!

Posted Leave a commentPosted in काम की बात

क्या आप बिना बिजली के जीवन की कल्पना कर सकते हैं ? शायद नहीं. क्योंकि औज के दौर में बिजली पर ही दुनिया दौड़ रही है. घर से लेकर गैजेट्स तक, शहर से लेकर गांव तक और रेल से लेकर हवाई जहाज तक बिजली बहुत जरूरी है. आखिर बिजली आई कहां से ? सवाल बड़ा […]

Read more >

अपनी इच्छाएं कैसे पुरी करे ।

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार

हमारे मन में हजारों इच्छाएं पैदा होती है तथा हम इन इच्छाओं को पुरा करने के लिए निरन्तर प्रयास करते रहते है। हम जो इच्छाएं करते है उनमें कुछ तो पुरी हो जाती है तथा कुछ अधुरी इच्छाएं मन में लिए हुए हम इस दुनियां से चले जाते है । इच्छा पूर्ति होने पर हमें […]

Read more >

आपके भाग्य विधाता आप स्वयं है।

Posted 1 CommentPosted in आध्यात्मिक विचार

जब किसी कार्य को करने पर असफलता प्राप्त होती है तो आप कहते है भाग्य साथ नहीं दे रहा है। भाग्यवादी बनकर आप अपनी प्रगति के रास्ते को बंद कर देते हो। आप सफलता प्राप्त होने पर अपना दोष नहीं देखते बल्कि कहते हो कि ईश्वर ने भाग्य में जो लिखा है वहीं होगा। भाग्य […]

Read more >

भाग्य को कैसे बदले

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार

आप जैसा सोचते है,महसुस करते है तथा विश्वास करते है वैसे ही आपके मन ,शरीर तथा परिस्थितियों का निर्माण होता है। प्रारम्भ में कुछ भी नहीं था तब परमात्मा ने सोचा की में एक से अनेक हो जाऊं उनकें संकल्प से ही इस ब्रह्माण्ड़ का निर्माण हुआ। आप भी उस परमात्मा के अंश है अर्थात […]

Read more >

अकेले हैं तो क्या गम है ऐसे बना डालिए दोस्त

Posted Leave a commentPosted in काम की बात

एक बात कही जाती है कि अकेलापन सेहत का दुश्मन है. ऐसे में सवाल उठता है कि दोस्त कहां से लाएं ? दुनिया इतनी तेजी से दौड़ रही है कि किसी के पास रुकने का समय तक नहीं है. ऐसे में दोस्त बनाना दूर की कौड़ी लगती है. दूर क्यों जाना. अपने आस पड़ोस, दफ्तर […]

Read more >

सफलता के सूत्र

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार

आप न तो शक्तिशाली है नहीं कमजोर। आपका मन ही आपको कभी शक्तिशाली बनाता है तो कभी कमजोर। एक कहावत है “ मन के हारे हार है मन के जीते जीत ” अर्थात किसी भी कार्य के प्रारम्भ में ही आपके मन में हार की आशंका हो तो आपको निश्चित ही असफलता मिलेगी यदि मन […]

Read more >

भोजन का महत्व

Posted Leave a commentPosted in काम की बात

खाना, भोजन, लंच, डिनर…शब्द कई उद्देश्य केवल एक, पेट भरना. कई लोगों के लिए ये विषय ही चौंकाने वाला हो सकता है. अजीब सा. दुनिया का शायद ही कोई जीवित प्राणी हो जिसे खाने की जरूरत न पड़ती हो. पेड़ पौधों से लेकर पशु पक्षियों और कीट पतंगों से लेकर जंगली जानवरों तक. हर कोई […]

Read more >

अशांत मन को शांत कैसे करे…

Posted 1 CommentPosted in पर्सनालिटी डेवलपमेंट, मेरी सोच, सच का सामना

दोस्तों आज मैं आपको बहुत ही जरूरी बात पर चर्चा करने वाला हूं…आज की हमारी पोस्ट है मन को साधने की….मन को शांत रखने की…दोस्तों आपने खुद को शांत रखने के लिए….मन को शांत रखने के लिए कई तरीके पढ़े होंगे, समझे होंगे…और दावे के साथ कहता हूं कि आप कुछ भी नहीं कर पाए […]

Read more >

मन के विभिन्न स्तर

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार

मन या चेतना को विभाजित नहीं किया जा सकता है मन अनादि एवं अमर है। मन या चेतना को कार्य करने के लिए किसी बाहरी स्त्रोत की आवश्यकता नहीं होती। यह स्वयं संचालित एवं स्वयं प्रकाश मान है तथा यह अनंतकाल तक कार्य करता रह सकता है। मन या चेतना शरीर से भी ज्यादा शक्तिशाली […]

Read more >