how to full enjoy in life jivandarshan

मौज में कैसे रहे ?

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, समाज

प्रसन्न चित्त रहना हमारा मूल स्वभाव है । आपने देखा होगा की छोटा बच्चा अकेले-अकेले प्रसन्न चित्त रहता है। छोटा बालक जब खेलता है तो वह खेल में खो जाता है तथा अपने हाथों को चलाता है पैरो को चलाता रहता है तथा उसके मुख मंडल पर एक अद्भुत आभा आ जाती है जो बालक […]

Read more >