do you know god ? jivandarshan

क्या आप परमात्मा को मानते है ?

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, प्रेरक प्रसंग, समाज

सभी साथी बैठकर आध्यात्म की चर्चा कर रहे थे कि एक भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर बोल उठे की में परमात्मा को नहीं मानता। तो मैंने कहा की गॉड पार्टीकल की खोज कर ली गई है तो उन्होंने भी हॉ कहा परन्तु में भगवान को नही मानता तब मेरे मन में विचार आया कि उनका यह […]

Read more >

संत ज्ञानेश्वर की लीला से कैसे हुआ चांगदेव के अहंकार का नाश

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, प्रेरक प्रसंग, भक्तों की कहानियाँ

संत ज्ञानेश्वर की लीला चांगदेव नाम के एक हठयोगी थे इन्होंने योग सिद्धि से अनेको सिद्धियाँ प्राप्त कर रखी थी तथा मृत्यु पर भी विजय प्राप्त कर ली थी उनकी उम्र 1400 वर्ष हो गई थी। चांगदेव को यश-प्रतिष्ठा का बहुत मोह था। वह अपने आप को सबसे महान मानते थे। इन्होंने जब संत ज्ञानेश्वर […]

Read more >
swami vivekananda thought

स्वामी विवेकानंद के जीवन के 5 प्रेरक प्रसंग जो आपकी ज़िन्दगी बदल देंगे (5 Prerak Prasang of Swami Vivekananda)

Posted Leave a commentPosted in प्रेरक प्रसंग

5 Prerak Prasang of Swami Vivekananda :- भारतीय युवाओं को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है तो वो है स्वामी विवेकानंद। विवेकानंद एक ऐसा व्यक्तितत्व है, जो हर युवा के लिए एक आदर्श बन सकता है। उनकी कही एक भी बात पर यदि कोई अमल कर ले तो शायद उसे कभी जीवन में असफलता व हार […]

Read more >

ईश्वर के सामने जाकर हम आंखें बंद क्यों कर लेते हैं..?

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, प्रेरक प्रसंग

सृष्टि के कण कण में ईश्वर का वास है. यह बात सदियों से कही सुनी जा रही है. मनुष्य के रोम रोम में भगवान बसे हैं. यह पहले वाक्य का ही रूपांतरित हिस्सा है जिसे मनुष्य पर केन्द्रित कर दिया गया है. सवाल यह है कि जब रोम रोम में भगवान बसे हैं, सृष्टि के […]

Read more >

हर काम में है आनंद

Posted Leave a commentPosted in आनंद ध्यान अमृत, प्रेरक प्रसंग

आज का प्रेरक प्रसग यह कहानी सिद्ध करती है कि हर काम में है आनंद बहुत पुरानी बात है एक गांव में कुछ मजदूर पत्थर के खंभे बना रहे थे। तभी वहां से एक संत गुजरे। उन्होंने एक मजदूर से पूछा यहां क्या बन रहा है? उसने कहा देखते नहीं पत्थर काट रहा हूं? संत […]

Read more >