shrimad bhagwat gita

कृष्ण ने धीर पुरूष किन्हे कहां है ?

Posted Leave a commentPosted in अध्याय द्वितीय, श्रीमद् भगवद्गीता

श्रीमद् भगवद्गीता अध्याय द्वितीय – श्लोक -13 देहिनोऽस्मिन्यथा देहे कौमारं यौवनं जरा। तथा देहान्तरप्राप्तिर्धीरस्तत्र न मुह्यति।।2.13।। अर्थः- जैसे जीवात्मा की इस शरीर में बालकपन,जवानी और वृद्धावस्था होती है वैसे ही मृत्यु हो जाने पर अन्य शरीर की प्राप्ति होती है। उस विषय में धीर पुरूष मोह ग्रस्त नहीं होता ।।2.13।। तात्पर्यः- आत्मा एक शरीर को […]

Read more >
what to eat in cold

ठण्ड में जरूर खायें,ये 8 चीजें जिनसे मिलती है शरीर को गर्मी

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

बाजरा – कुछ अनाज शरीर को सबसे ज्यादा गर्मी देते है। बाजरा एक ऐसा ही अनाज है। सर्दी के दिनों में बाजरे की रोटी बनाकर खाएं। छोटे बच्चों को बाजरा की रोटी जरूर खाना चाहिए। इसमें कई स्वास्थ्यवर्धक गुण भी होते है। दूसरे अनाजों की अपेक्षा बाजरा में सबसे ज्यादा प्रोटीन की मात्रा होती है। […]

Read more >
What to do to avoid cold

ठंड से बचने के लिए क्या खाए और क्या करे ।

Posted Leave a commentPosted in आयुर्वेद विज्ञान

21 दिसम्बर 2018 शुक्रवार से शिशिर ऋतु प्रारंभ ।शीत ऋतु के अंतर्गत हेमंत और शिशिर ऋतुएँ आती हैं। इस काल में चन्द्रमा की शक्ति विशेष प्रभावशाली होती है। इसलिए इस ऋतु में औषधियों, वृक्ष, पृथ्वी व जल में मधुरता, स्निग्धता व पौष्टिकता की वृद्धि होती है, जिससे प्राणिमात्र पुष्ट व बलवान होते हैं। इन दिनों […]

Read more >
How to remove laziness

आलस्य कैसे दुर करें ?

Posted Leave a commentPosted in मेरी सोच, सच का सामना

दोस्तों वैसे तो आलस्य दुर करने का कोई उपाय नहीं है…क्योंकि ये खुद पर ही डिपेड़ करता है….पर उसे खुद से कैसे दुर किया जाए उसके बारे में मैं आपको बताउंगा…. सबसे पहले तो ये जानते है कि हमें आलस्य क्यों आता है…. तो इसकी वजह यह है कि जब हम हमारे इनटरेस्ट का काम […]

Read more >
what is soul ?

आत्मा क्या है ?

Posted 1 CommentPosted in अध्याय द्वितीय, श्रीमद् भगवद्गीता

श्रीमद्भगवद्गीता अध्याय द्वितीय श्लोक – 12 आत्मा क्या है ? न त्वेवाहं जातु नासं न त्वं नेमे जनाधिपाः। न चैव न भविष्यामः सर्वे वयमतः परम्।।2.12।। अर्थः- न तो ऐसा ही है कि मैं किसी काल में नहीं था,तु नहीं था अथवा ये राजा लोग नहीं थे और न ऐसा ही है कि इससे आगे हम […]

Read more >