Spend as much time with the elderly jivandarshan

उनसे बातें करना, उन्हें दोस्त बनाने का भी अलग मजा है…!!

Posted 2 CommentsPosted in काम की बात

मुझे मेरी दादी से बहुत लगाव था. हम सभी (भाई-बहन) उन्हें प्यार से ‘बऊ’ कहते थे. दरअसल बुंदेलखंडी में दादी के लिए यही शब्द उपयोग होता है. हमारी दादी अक्सर कहा करती थीं ‘हमारो बब्लू ‘कलेक्धर’ (कलेक्टर) बन है.’ ये उनका स्नेह था मेरे प्रति. स्कूल और कॉलेज के दौर में अक्सर रात में घर […]

Read more >
parents jivandarshan

किसकी कृपा से सब कुछ मिलता है !

Posted 2 CommentsPosted in काम की बात, मेरी सोच, समाज

दोस्तों आज बहुत दिनों बाद एक नयी पोस्ट लेकर आया हूँ… आज की पोस्ट है कि ऐसा क्या करे ….जिससे आपको दुनियां की हर खुशी मिले…आप जो चाहे वो आपको मिले…जिससे प्यार करने से संसार की हर खुशी आपको मिले… तो वो है आपके माता-पिता दोस्तों मैं जानता हूं कि ये बात आप सभी जानते […]

Read more >

आभामंड़ल (AURA) को शुद्ध कैसे करे ?

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, काम की बात

How to purify the Aura वैसे तो औरा को शुद्ध करने की काफी विधियाँ प्रचलित है । औरा को शुद्ध करने पर बॉडी में उर्जा का प्रवाह ठीक हो जाता है व्यक्ति की शारीरिक,मानसिक या भावनात्मक समस्या दुर हो जाती है ।मार्जन क्रिया से भी औरा को शुद्ध किया जा सकता है तथा औरा के […]

Read more >
How to see or experience the Aura jivandarshan

आभामंड़ल (AURA) को किस प्रकार देखे या अनुभव करे।

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, काम की बात

How to see or experience the Aura अपने स्वयं का आभमंड़ल देकने के लिए चांदनी रात में छत पर खड़े हो जाए तथा आपकी जो छाया दिखती है उस छाया के गर्दन पर थोड़ी देर त्राटक करे तथा फिर दृष्ति को आकाश में ले जाए तो तुम्हारे ओरा को तुम देख सकते हो। यदि आपके […]

Read more >
Simple procedure for attaining concentration jivandarshan

एकाग्रता प्राप्त करने की सरल विधी

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, काम की बात, पर्सनालिटी डेवलपमेंट

आपको ज्ञान प्राप्त करना है तो इसका एक ही उपाय है एकाग्रता । वैज्ञानिको ने प्रयोगशाला में जाकर मन को एकाग्र कर पुरे मनोयोग से पुरा प्रयत्न किया तथा प्रकृति के रहस्य को जाना तथा विज्ञान का विकास किया । वैज्ञानिक अपने प्रयोगो में इतने तल्लीन हो जाते थे कि वह बाहरी दुनियाँ बिलकुल भुल […]

Read more >
Human beings are non vegetarians or vegetarians jivandarshan

मनुष्य मांसाहारी जीव है या शाकाहारी ?

Posted 2 CommentsPosted in आध्यात्मिक विचार, काम की बात

हमारा मन पवित्र रहे ऐसा भोजन करना चाहिए। आध्यात्मिक सफलता के लिए क्या शाकाहारी होना आवश्यक है ? किसी-किसी ग्रन्थों में तथा कई व्यक्ति मांसाहार के पक्ष में बात करते है तथा कभी-कभी अपने तर्क द्वारा तथा ग्रन्थों के अन्दर आये किसी श्लोक का सहारा लेकर अपनी बात को सही साबित करने का प्रयत्न करते […]

Read more >
sleeping jivandarshan

क्या आप क़्वालिटी नींद लेते है ?

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, मेरी सोच, समाज

आजकल वैज्ञानिको ने मस्तिष्क से निकलने वाली विघुत तरंगो को उपकरण से नापना संभव बना दिया है । वैज्ञानिको ने बताया की जब हम सांसारिक कार्यो में लगे हुए होते है तथा जाग्रत अवस्था में होते है तो हमारे मस्तिष्क से 14 हर्ट्ज सेसे 21 हर्ट्ज आवृति की तरंगे उपकरण से नापी गई इसे बीटा […]

Read more >
serve parents jivandarshan

हमें माता-पिता की सेवा क्यों करनी चाहिये ?

Posted Leave a commentPosted in आध्यात्मिक विचार, काम की बात, ज्योतिष ज्ञान, सच का सामना, समाज

हमें माता-पिता की सेवा क्यों करनी चाहिये ? जिन्दगी में आप सुखी होना चाहते है , परलोक को भई सुधारना चाहते है तो चौबीस घण्टे में एक बार माता व पिता के चरण स्पर्श करों तथा यदि माता-पिता जीवित न हो या आप माता-पिता से दुर रहते हो तो मन ही मन में उन्हें याद […]

Read more >

क्यों हो रहा है आपके घर में दरिद्रता का वास ?

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, समाज

क्या आपके घर में भी हैं दरिद्रता का वास तो जानिए आज हम आपको बताएंगे कि आप ऐसा क्या करते है जिससे आप बिलकुल अनजान है…या फिर जानकर भी आप अनजान बने हुए है….. स्नान के चार उपनाम (1)मुनि स्नानः- पुराने जमाने में ऋषि मुनि सुर्योदय के पहले स्नान व अपने दिनचर्य को पुरा करते […]

Read more >

ईश्वर के सामने जाकर हम आंखें बंद क्यों कर लेते हैं..?

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, प्रेरक प्रसंग

सृष्टि के कण कण में ईश्वर का वास है. यह बात सदियों से कही सुनी जा रही है. मनुष्य के रोम रोम में भगवान बसे हैं. यह पहले वाक्य का ही रूपांतरित हिस्सा है जिसे मनुष्य पर केन्द्रित कर दिया गया है. सवाल यह है कि जब रोम रोम में भगवान बसे हैं, सृष्टि के […]

Read more >

स्वामी विवेकानंद द्वारा कही ये 10 बाते शायद ही जानते होंगे आप….

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, मेरी सोच, सच का सामना

1) अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करो | और सभी दूसरे विचार को अपने दिमाग से निकाल दो यही सफलता की पूंजी है | 2) उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये. 3) उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो, तुम एक अमर […]

Read more >

यदि आपकी भी ये आदत है तो लोग आपसे हमेशा के लिए दूर हो जाएंगे..?

Posted Leave a commentPosted in काम की बात, सच का सामना

स्टीफन हॉकिंग आधुनिक दौर के सबसे प्रसिद्द वैज्ञानिकों में से एक रहे. विकलांग होने के बावजूद उन्होंने अन्तरिक्ष के कुछ ऐसे रहस्यों से पर्दा उठाया है जिस पर दुनिया आश्चर्य करती है. उनकी किताब ए ब्रीफ हिस्टरी ऑफ टाइम अपने तरह की सबसे फेमस बुक्स में गिनी जाती है. उनके शरीर का 94 प्रतिशत काम […]

Read more >