Santoshi Mata KI Vrat Katha hindi by jivandarshan

संतोषी माता की संपूर्ण व्रत कथा (Santoshi Mata KI Vrat Katha hindi)

आध्यात्मिक विचार

संतोषी माता व्रत कथा:-Santoshi Mata KI Vrat Katha hindi एक बुढ़िया थी, उसके सात बेटे थे। 6 कमाने वाले थे जबकि एक निक्कमा था। बुढ़िया छहों बेटों की रसोई बनाती, भोजन कराती और उनसे जो कुछ जूठन बचती वह सातवें को दे देती। एक दिन वह पत्नी से बोला: देखो मेरी माँ को मुझ पर […]

Read more >
Shri Satyanarayan Ji Ki Aarti hindi by jivandarshan

श्री सत्यनारायण जी आरती (Shri Satyanarayan Ji ki Aarti hindi)

आध्यात्मिक विचार

जय लक्ष्मी रमणा,स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।सत्यनारायण स्वामी,जन पातक हरणा ॥ ॐ जय लक्ष्मी रमणा,स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । रतन जड़ित सिंहासन,अदभुत छवि राजे ।नारद करत नीराजन,घंटा वन बाजे ॥ॐ जय लक्ष्मी रमणा,स्वामी जय लक्ष्मी रमणा । प्रकट भए कलिकारण,द्विज को दरस दियो ।बूढ़ो ब्राह्मण बनकर,कंचन महल कियो ॥ ॐ जय लक्ष्मी रमणा,स्वामी जय लक्ष्मी […]

Read more >
Shri shani dev chalisa hindi by jivandarshan

श्री शनि चालीसा ( Shri shani dev chalisa hindi)-आरती/चालीसा

आध्यात्मिक विचार

॥ दोहा ॥जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ॥ जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज ।करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ॥ ॥ चौपाई ॥जयति जयति शनिदेव दयाला ।करत सदा भक्तन प्रतिपाला ॥ चारि भुजा, तनु श्याम विराजै ।माथे रतन मुकुट […]

Read more >
Shri Khatu shyam ji ki aarti hindi by jivandarshan-min

श्री खाटू श्याम जी की आरती ( Shri Khatu shyam ji ki aarti hindi)

आध्यात्मिक विचार

ॐ जय श्री श्याम हरे,बाबा जय श्री श्याम हरे।खाटू धाम विराजत,अनुपम रूप धरे॥ॐ जय श्री श्याम हरे…॥ रतन जड़ित सिंहासन,सिर पर चंवर ढुरे ।तन केसरिया बागो,कुण्डल श्रवण पड़े ॥ॐ जय श्री श्याम हरे…॥ गल पुष्पों की माला,सिर पार मुकुट धरे ।खेवत धूप अग्नि पर,दीपक ज्योति जले ॥ॐ जय श्री श्याम हरे…॥ मोदक खीर चूरमा,सुवरण थाल […]

Read more >
santoshi mata ki aarti hindi by jivandarshan

संतोषी माता की आरती (Santoshi mata ki aarti in hindi)

आध्यात्मिक विचार

जय सन्तोषी माता,मैया जय सन्तोषी माता ।अपने सेवक जन की,सुख सम्पति दाता ॥ जय सन्तोषी माता,मैया जय सन्तोषी माता ॥ सुन्दर चीर सुनहरी,मां धारण कीन्हो ।हीरा पन्ना दमके,तन श्रृंगार लीन्हो ॥ जय सन्तोषी माता,मैया जय सन्तोषी माता ॥ गेरू लाल छटा छबि,बदन कमल सोहे ।मंद हंसत करुणामयी,त्रिभुवन जन मोहे ॥ जय सन्तोषी माता,मैया जय सन्तोषी […]

Read more >
Om Jai Jagdish Hare Lyrics in hindi by jivandarshan

जानिए “ॐ जय जगदीश हरे आरती” के लिरिक्स (Om Jai Jagdish Hare Lyrics in hindi)

आध्यात्मिक विचार

जानिए ॐ जय जगदीश हरे आरती को किसने व कब लिखा था (Aarti Lyrics in hindi) सबसे ज्यादा लोकप्रिय आरती ओम जय जगदीश हरे 150 सालों से यह आरती पूजा-अनुष्ठान का एक अभिन्न अंग बन चुकी है। इसे बनाया था पंडित श्रद्धाराम फुल्लौरी ने ।  यह आरती मूलतः भगवान विष्णु को समर्पित है फिर भी इस […]

Read more >